1000 करोड़ रुपये किसके? छापे में इनकम टैक्स के अधिकारियों के भी उड़े होश!

1000-crores-of-rupees-Income-tax-officials-also-lost-their-senses-in-the-raid

चेन्नई आयकर विभाग ने चेन्नई में एक आईटी अवसंरचना समूह से जुड़े मामले में मदुरै, चेन्नई सहित पांच स्थानों पर छापा मारकर एक बड़े घोटाले का पर्दाफाश करने का दावा किया है। विभाग का कहना है कि जांच में लगभग 1,000 करोड़ रुपये बरामद किए गए, जिसका कोई हिसाब नहीं है। ये छापे 4 नवंबर को मारे गए थे।

आयकर (आईटी) विभाग का दावा है कि उसे सिंगापुर में पंजीकृत कंपनी के संदिग्ध निवेश से संबंधित महत्वपूर्ण सबूत मिले हैं। दो और कंपनियां समूह में शेयर होल्डर के रूप में हैं। इनमें से एक समूह की पहले से ही आईटी विभाग द्वारा जांच की जा रही है। दूसरी शेयर धारक कंपनी एक प्रसिद्ध बुनियादी ढांचे के विकास और वित्तीय समूह की सहायक कंपनी है।

आईटी विभाग का कहना है कि जिस कंपनी पर छापा मारा गया, उसके 72% शेयर हैं जबकि उसने मामूली निवेश किया है। बाकी शेयर दूसरी कंपनी के पास हैं, जबकि उसका निवेश ज्यादा है। विभाग द्वारा बताया गया कि लगभग 70 मिलियन सिंगापुर डॉलर का इस तरह से लाभ उठाया गया है। यह लगभग 200 करोड़ भारतीय रुपये के बराबर है। लेकिन कंपनी ने इसकी जानकारी नहीं बताई।

आयकर विभाग ने एक विज्ञप्ति में कहा, “आयकर विभाग ने 4 नवंबर को चेन्नई और मदुरै में पांच स्थानों पर छापे मारे। अब काले धन अधिनियम, 2015 के तहत कार्रवाई की जाएगी। वर्तमान निवेश मूल्य 354 करोड़ रुपये से अधिक है। । ‘

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.