2 मौसेरी बहनें निकली मर्द, जब पता लगा तो मच गया कोहराम

2-cousin-sisters-became-men-when-they-found-out-there-was-chaos
image source: sayingimages

नई दिल्ली: विज्ञान और चिकित्सा की दुनिया एक ऐसी दुनिया है जहां हर दिन नए खुलासे होते हैं। दरअसल, विज्ञान के अंदर कई पहेलियां हैं जिन्हें सुलझाने में सालों लग जाते हैं। कोरोना जैसी महामारी के बारे में देश और दुनिया भर में शोध हो रहे हैं, लेकिन अभी तक विज्ञान इसके टीके को खोजने में विफल रहा है। पिछले दिनों पश्चिम बंगाल से एक अजीबोगरीब मामला सामने आया है। जिसने विज्ञान को भी दो बार सोच लिया है। दरअसल, यहां एक 30 वर्षीय महिला, जिसकी पिछले 10 साल से शादी है, को अचानक पेट में दर्द की शिकायत हुई। जब उसे इलाज के लिए अस्पताल लाया गया, तो परीक्षण में पाया गया कि पुरुषों में कैंसर उस महिला में मौजूद है।



बहन भी इस बीमारी से पीड़ित थी

जब डॉक्टरों ने महिलाओं में पुरुषों के इस सिंड्रोम के बारे में बताया, तो उनके पैरों के नीचे से जमीन खिसक गई। उन्होंने तुरंत इस बात की जानकारी अपने परिवार वालों को दी। जिसके बाद, जब उसकी 28 वर्षीय छोटी बहन को जांच के लिए बुलाया गया, तो वह भी उसी बीमारी से पीड़ित थी। डॉक्टरों का मानना ​​है कि वे दोनों पुरुष हैं। आपको बता दें कि दोनों बहनों में, एंड्रोजन असंवेदनशीलता सिंड्रोम (AIS) मौजूद है जो आमतौर पर केवल पुरुषों में पाया जाता है। ऐसे में महिलाओं में यह सिंड्रोम होना बहुत ही अजीब है।

AIS क्या है?

इस बारे में जानकारी देते हुए डॉक्टरों ने कहा कि AIS एक विशेष प्रकार की बीमारी है। इसमें जन्म लेने वाले बच्चों में पुरुषों के जीन्स मौजूद होते हैं। लेकिन समय के साथ उनका शरीर महिलाओं की तरह विकसित होने लगता है। जब दोनों बहनों की गहराई से जांच और परीक्षण किया गया, तो दोनों में AIS पाया गया।

पुरुष बाहर से एक महिला को देखते हैं

प्राप्त जानकारी के अनुसार, पीड़ितों का वर्तमान में बीरभूम के नेताजी सुभाष चंद्र बोस अस्पताल में इलाज चल रहा है। एक ही समय में, दोनों बाहर से पूरी तरह से महिला लगते हैं, लेकिन वास्तव में वे केवल पुरुष हैं। उनके शरीर की बनावट और आवाज भी महिला की है। लेकिन उनके पेट में कोई गर्भाशय या अंडकोष नहीं है। गौरतलब है कि टेस्टिकुलर कैंसर से पीड़ित महिला 22 हजार लोगों में से किसी एक में पाई जाती है। ऐसी महिलाएं कभी भी गर्भवती नहीं हो सकती हैं।

अपने ही घर की नौकरानी से बनाने लगा संबंध ना जानकर हो जायेंगे हैरान

कीमोथेरेपी से इलाज शुरू हुआ

बता दें कि एक महिला का करप्टोटाइपिंग टेस्ट भी किया गया था, जिसमें उसके गुणसूत्रों पर शोध किया गया था। जिसके बाद अब महिला को उपचार के रूप में कीमोथेरेपी दी जा रही है। यह भी आश्चर्य की बात है कि महिला की बहन सहित दो महिलाओं को एक ही बीमारी है। इससे स्पष्ट है कि यह बीमारी उनके परिवार में पीढ़ियों से चली आ रही है।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.