हिंदुत्व के मुद्दे पर बोले असदुद्दीन ओवैसी- हमारे संविधान के समानता और न्याय के मूल्यों के खिलाफ

Asaduddin Owaisi, CAA, Mohan Bhagwatबिहार-विधानसभा-चुनाव-2020
image source: instagram screenshot

ओवैसी ने एक ट्वीट में लिखा, ‘हिंदुत्व हमारे संविधान के समानता और सामाजिक न्याय के मूल्यों के विरोधाभासी है। ये अमूर्त सिद्धांत नहीं हैं, अल्पसंख्यकों और हाशिए के लोगों के जीवन पर उनका वास्तविक प्रभाव होना चाहिए। जो भी भारतीय इन मूल्यों को अपने दिल के करीब रखते हैं, उन्हें अपनी पूरी ताकत से इसका विरोध करना चाहिए। ‘

अमर्त्य सेन ने अपने लेख में लिखा है कि भारत में शासन का इतिहास और तरीका धीरे-धीरे बदला जा रहा है। उन्होंने अपने शीर्षक में कहा है कि जिस तरह से भारत धीरे-धीरे निरंकुशता की ओर बढ़ रहा है, उसमें अहिंसक विरोध सबसे मजबूत रास्ता है।

इस लेख में उन्होंने लिखा है, ‘वर्तमान सरकार की प्राथमिकताओं के अनुसार, भारत में कई स्कूली किताबें फिर से लिखी जा रही हैं, जिसमें इतिहास को बदला जा रहा है, इसमें मुस्लिम लोगों के योगदान को कम या पूरी तरह से अनदेखा किया जा रहा है।’

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.