नशे में धुत्त एक्टर धर्मेंद्र को जब फिल्म सेट पर आया गुस्सा, इस विलेन को बेवजह पीट दिया

नशे-में-धुत्त-एक्टर-धर्मेंद्र-को-जब-फिल्म-सेट-पर-आया-गुस्सा

धर्मेंद्र पाजी न केवल अपने बेटे सनी की तरह ढाई किलो का मुक्का रखते हैं, बल्कि इसका बेवजह इस्तेमाल भी करते हैं। उनके कई सह-कलाकार धर्मेंद्र के मुक्के से अच्छी तरह से वाकिफ हैं क्योंकि उन्होंने कई बार इसका इस्तेमाल किया है। घई से लेकर संजय खान तक उन्होंने भी धर्मेंद्र के इस पंच का स्वाद चखा है। अभिनेता सदाशिव अमरापुरकर फिल्म ‘नकाबंदी’ के दौरान इस पंच के शिकार हुए। आइए जानते हैं कि पाजी ने सदाशिव को बेवजह क्यों सजा दी।

1990 में, धर्मेंद्र और सदाशिव निर्देशक शिबू मित्रा की फिल्म ‘नकाबंदी’ में काम कर रहे थे। फिल्म की शूटिंग एक दिन चल रही थी। दृश्य के अनुसार, सदाशिव अपने खलनायक शैली में संवादों की झड़ी लगा रहे थे। धर्मेंद्र पीछे बैठा थे  और चुपचाप तमाशा देख रहा थे। अचानक धर्मेंद्र उठते  है और सीधे सदाशिव के सामने आ खड़ा हो जाते  है। इससे पहले कि सदाशिव कुछ समझ पाता, धर्मेंद्र ने सदाशिव अमरापुरकर को मुंह पर मुक्का मार दिया।

पूरी यूनिट वहां जमा हो गई थी। लोगों ने समझा कि यह दृश्य का हिस्सा है और धर्मेंद्र ने एक जबरदस्त शॉट दिया। लोग खुशी से झूमने लगे। सदाशिव धर्मेंद्र को घूर रहे थे। निर्देशक शिबू मित्रा जानते थे कि इस शॉट में पाजी का कोई सीन नहीं था। वह धर्मेंद्र के पास गया और उससे पूछा – तुमने क्या किया है? धर्मेंद्र की तरह उठो

सदाशिव को आहत होते देख धर्मेंद्र को गहरा दुख हुआ क्योंकि सदाशिव के चेहरे पर गुशमार उभर आए। धर्मेंद्र सदाशिव से माफी मांगने लगे। आखिर सदाशिव ने भी इस मामले को जाने दिया। बाद में पता चलता है कि धर्मेंद्र ने उस दिन बहुत कुछ दिया था। उन्होंने सदाशिव के कुटिल संवादों को निजी तौर पर लिया और उनके पंचों ने अनावश्यक रूप से अपना काम किया।

वैसे, धर्मेंद्र के साथ काम करने वाले सह-कलाकार जानते थे कि वह बिना शराब पीए शूटिंग नहीं करते हैं, इसलिए वे एहतियात बरतते थे लेकिन सदाशिव अमरापुरकर को इसकी जानकारी नहीं थी। शायद इस घटना के बाद उन्हें भी पता चल गया होगा कि धर्मेंद्र के सामने कितना और कैसे बोलना चाहिए।