देश में सुबह स्कूल खोलने के लिए दिशानिर्देश जारी, विस्तार से देखें

open-school-21-september
image source: theconversation.com

नई दिल्ली; केंद्र सरकार ने आंशिक रूप से खुले स्कूलों के लिए एक मानक संचालन प्रक्रिया (एसओपी) जारी की है जो कोरोना वायरस महामारी के कारण बंद थे। स्कूलों को कक्षा 9 वीं से 12 वीं तक के छात्रों के लिए 21 सितंबर से खोलने की अनुमति दी गई है। हालांकि, यह स्वैच्छिक होगा यानी यह छात्रों पर निर्भर होगा कि वे स्कूल जाना चाहते हैं या नहीं। इस दौरान छात्रों के बीच कम से कम 6 फीट की दूरी रखनी होती है। फेस कवर / मास्क की भी आवश्यकता होगी। कंटेनर जोन में स्थित स्कूलों को खोलने की अनुमति नहीं दी जाएगी।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा नौवीं से बारहवीं कक्षा के छात्रों के लिए स्कूलों को फिर से खोलने के लिए जारी एसओपी में कहा गया है कि ऑनलाइन / दूरस्थ शिक्षा के लिए अनुमति जारी रहेगी। स्कूल अपने शिक्षण और गैर-शिक्षण कर्मचारियों को 50 प्रतिशत तक ऑनलाइन शिक्षण / टेली-परामर्श और अन्य संबंधित गतिविधियों के लिए बुला सकते हैं। अगर वे अपने शिक्षकों से मार्गदर्शन लेने के लिए स्कूल जाना चाहते हैं तो नौवीं से 12 वीं तक के छात्रों को अनुमति दी जाएगी। हालांकि, उन्हें अपने माता-पिता या अभिभावकों से लिखित सहमति लेनी होगी। छात्रों के पास ऑनलाइन अध्ययन करने का विकल्प भी होगा।

प्रयोगशाला से कक्षाओं तक के छात्रों के बैठने की ऐसी व्यवस्था को उनके बीच कम से कम 6 फीट की दूरी बनाए रखना होगा। छात्रों की सभा यानी खेल और खेल से जुड़ी गतिविधियों पर रोक लगा दी जाएगी क्योंकि इससे संक्रमण फैलने का खतरा होगा। राज्य के हेल्पलाइन नंबरों के अलावा, स्थानीय स्वास्थ्य अधिकारियों की संख्या भी स्कूलों में प्रदर्शित की जाएगी ताकि आपात स्थिति में उनसे संपर्क किया जा सके।

उत्तरप्रदेश के स्कूल खोले जाने पर बड़ी खबर, चल रही हैं ये तैयारी, यहां देखें…

कंटेनर ज़ोन में रहने वाले शिक्षकों या कर्मचारियों को स्कूल जाने की अनुमति नहीं है। जिन स्कूलों को संगरोध केंद्र के रूप में इस्तेमाल किया गया था, उन्हें आंशिक रूप से खुलने से पहले अच्छी तरह से साफ करने का निर्देश दिया गया है। इसके अलावा, सभी स्कूलों को हाइपोक्लोराइट समाधान के साथ सफाई करने का निर्देश दिया गया है।