देशभर के वाहन मालिकों के लिये मोदी सरकार का बडा फैसला

देशभर के वाहन मालिकों के लिये मोदी सरकार का बडा फैसला

नई दिल्ली। नेशनल हाइवे पर वाहनों की लंबी कतार और लगातार टोल देने से मना करने वाले लोगों को दोनों से छूट दी जाएगी। दरअसल, भारत में 1 जनवरी से सभी वाहनों के लिए FASTag अनिवार्य कर दिया गया है। जिसके तहत सरकार एक ऐसी प्रणाली की ओर बढ़ने की इच्छुक है जहां 100 प्रतिशत फास्टैग के माध्यम से टोल किराए की वसूली की जाएगी। यानी टोल पर किसी भी तरह का कैश हैंडलिंग नहीं होगा।

रिपोर्ट के अनुसार, सरकार का लक्ष्य प्रति दिन टोल से लगभग 100 करोड़ रुपये एकत्र करना है, जो वर्तमान में 93 करोड़ रुपये प्रति दिन तक सीमित है। यहां ध्यान देने वाली बात यह है कि राष्ट्रीय राजमार्गों पर लगभग 80 प्रतिशत टोल पहले से ही फैस्टैग के माध्यम से लिया जा रहा है। यही है, यदि आपके वाहन में 1 जनवरी के बाद FASTag है, और आप राष्ट्रीय राजमार्ग पर यात्रा कर रहे हैं, तो आने वाले समय में यह आपके लिए असुविधाजनक साबित हो सकता है।

FASTag क्या है: FASTag एक स्टिकर या एक टैग है जो आमतौर पर कार की विंडस्क्रीन से चिपका होता है। जब आप राष्ट्रीय राजमार्ग से गुजरते हैं, तो डिवाइस टोल प्लाजा पर स्थापित स्कैनर वाहन पर लगे स्कैनर से रेडियो फ्रीक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन (RFID) तकनीक का उपयोग करता है, और स्थान के अनुसार राशि स्वचालित रूप से बैंक खाते से काट ली जाती है। इसके माध्यम से वाहनों को बिना किसी रुकावट के प्लाजा से चलाया जा सकता है। यदि आपका टैग किसी प्रीपेड खाते से जुड़ा हुआ है जैसे कि वॉलेट या डेबिट / क्रेडिट कार्ड, तो मालिकों को टैग को रिचार्ज या टॉपअप करना होगा।

फैस्टैग कहां से प्राप्त करें: आप इस स्टिकर को अमेजन, पेटीएम, स्नैपडील आदि जैसे प्रमुख खुदरा प्लेटफार्मों पर ऑनलाइन खरीद सकते हैं। इसके अलावा, यह देश के 23 बैंकों द्वारा भी उपलब्ध कराया जा रहा है। इसी समय, सड़क परिवहन प्राधिकरण कार्यालय भी इन टैगों को बेचते हैं। नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया (NHAI) अपनी सब्सिडियरी इंडियन हाईवे मैनेजमेंट कंपनी लिमिटेड (IHMCL) के माध्यम से FASTag की बिक्री और संचालन करती है। जानकारी के लिए, एक बैंक से लिया गया FASTag दूसरे बैंक खाते के साथ उपयोग नहीं किया जा सकता है। इसलिए उपयोगकर्ता उसी बैंक से FASTag खरीदना पसंद करते हैं जिसमें उनके बैंक खाते हैं।

कीमत और वैधता: एनएचएआई के अनुसार आप फास्टैग को किसी भी बैंक से 200 रुपये में खरीद सकते हैं। इसके साथ ही आप इसे कम से कम 100 रुपये से रिचार्ज कर सकते हैं। इसकी वैधता की बात करें, तो अभी तक इस पर कोई खबर नहीं है। लेकिन यह तब तक काम करेगा जब तक इसे स्कैनर द्वारा स्कैन किया जा रहा है।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.