PUBG banned in India: भारत सरकार ने पबजी समेत चीन के 118 मोबाइल ऐप को किया बैन।

pubg-mobile-banned-in-india
image source : pubg mobile

नई दिल्ली- भारत और चीन के बीच तनाव जारी है   इसके कारन भारत सरकार ने फिर एक और बार चीनी मोबाइल ऐप्स भारत में बैन कर दिया है (India bans 118 Chinese Apps) । इस बार भारत सरकार ने सबसे ज्यादा लोकप्रिय गेमिंग ऐप पबजी (PUBG banned in India) के साथ समेत 118 मोबाइल ऐप पर प्रतिबंध लगा दिया है। Ministry of Electronics and Information Technology ने राष्ट्रीय सुरक्षा का हवाला देते हुए इन चीनी apps को  बैन  किया है।

इस बार जिन चीनी ऐप पर प्रतिबंध लगाया गया है उनमें PUBG सबसे प्रमुख है और इसके अलावा ऐपलॉक, कैरम फ्रेंड्स, लिविक, वीचैट वर्क और वीचैट रीडिंग,,  जैसी मोबाइल ऐप शामिल किया गया हैं।

 

 चीनी app पर बैन क्यूँ लगाया गया?

Ministry of Electronics and Information Technology ने आईटी ऐक्ट के सेक्शन 69A के तहत अपनी शक्तियों का इस्तेमाल करते हुए इन सभी 118 मोबाइल ऐप्स पर बैन लगाया दिया  है।भारत  सरकार के हिसाव से ये चीनी मोबाइल ऐप भारत की संप्रभुता, रक्षा और राज्यों की सुरक्षा व पब्लिक ऑर्डर के खिलाफ गतिविधियों में शामिल थे इसलिए इनको बैन किया गया है।

 

क्या data चोरी और भारत की सुरक्षा और संप्रभुता के खिलाफ गतिविधियों में शामिल थे ये ऐप ?

ऐसी बात सामने आ रही है कि Government of India Ministry ने अपने बयान में कहा है, कि उसे इन चीनी  ऐप्स के बारे में कई शिकायतें मिल रही थीं। हमें कई ऐसी रिपोर्ट्स मिली थीं कि एंड्रॉयड और iOS प्लेटफॉर्म्स पर मौजूद कुछ मोबाइल ऐप यूजर्स के डेटा को चोरी कर रही हैं और इसके साथ यूजर्स के डेटा को  लगातार देश से बाहर स्थित अपने किसी दूसरे सर्वर में अवैध रूप से पहुंचा रही हैं।
PUBG Mobile सहित Baidu, Baidu Express Edition, Tencent Watchlist, FaceU, WeChat Reading and Tencent Wein, apps 118 चीनी एप्प्स भारत में अब बेन कर दिये गए है इसके आलावा जून में 59  और जुलाई में 47 चीनी ऐप्प्स पहले बैन किये गए थे जिसमे tiktok helo जैसे प्रसिद्ध ऐप्प्स शामिल थे अब तक कुल मिलाकर भारत में 224 चीनी mobile apps पर प्रतिबंध लग चूका है।

image source: pubg mobile

ये भी पढ़ें – Saath Nibhaana Saathiya 2 Promo: देवोलीना भट्टाचार्जी गोपी बहू के रूप में वापस आ गई हैं,

Leave a Reply

Your email address will not be published.