बस इन शहरों में मिली 2 घंटे की पटाखों पर छूट, देशभर में पटाखों पर लगी रोक, यहां देंखे

पटाखों

नई दिल्ली। देश भर में वायु प्रदूषण के कारण बिगड़ती वायु गुणवत्ता को ध्यान में रखते हुए, नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) ने एक बड़ा फैसला लिया है। एनजीटी ने देश के अन्य राज्यों को आदेश देते हुए दिल्ली-एनसीआर में आज रात से 30 नवंबर तक पटाखों की बिक्री पर प्रतिबंध लगा दिया है। एनजीटी ने अपने आदेश में कहा कि शहरों में केवल हरे रंग के पटाखों को बेचा और इस्तेमाल किया जा सकता है जहां हवा की गुणवत्ता सही है और इसके लिए केवल 2 घंटे का समय दिया गया है। यह छूट दीवाली, छठ पूजा, क्रिसमस और नए साल के लिए दी गई है। गौरतलब है कि दिल्ली सरकार ने दिवाली पर पहले ही राजधानी में पटाखों की बिक्री पर प्रतिबंध लगा दिया है।

गौरतलब है कि इससे पहले देश की राजधानी दिल्ली और इसके आसपास के शहरों से पटाखों पर प्रतिबंध लगाने की मांग की गई थी। इसके बाद, जैसे ही अन्य राज्यों से ऐसी मांग उठने लगी, एनजीटी ने मामले का दायरा बढ़ा दिया। इसके बाद इसमें देश के सभी राज्य और केंद्र शासित प्रदेश शामिल थे।

बता दें कि इससे पहले एनजीटी ने एक याचिका पर सुनवाई करते हुए चार राज्यों और पर्यावरण मंत्रालय को नोटिस भेजा था। नोटिस में पटाखों पर प्रतिबंध लगाने वाली याचिका पर इन राज्यों से जवाब मांगा गया। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, राज्यों ने इस संदर्भ में एनजीटी को अपना जवाब भेजा था, जिसके बाद आज एनजीटी ने इस महत्वपूर्ण विषय पर एक डिक्री जारी की।

महाराष्ट्र में भी प्रतिबंध

आपको बता दें कि NGT के आदेश से पहले देश के कई राज्यों में पटाखे जलाने पर प्रतिबंध लगा दिया था। इसमें हरियाणा और कर्नाटक शामिल हैं। वहीं, महाराष्ट्र सरकार ने भी पटाखे जलाने पर प्रतिबंध लगा दिया है। राज्य सरकार ने लोगों से पटाखे फोड़ने से परहेज करने की अपील की है। बृहन्मुंबई महानगर पालिका (BMC) ने अपने अधिकार क्षेत्र के तहत सार्वजनिक स्थानों पर पटाखे फोड़ने पर प्रतिबंध लगा दिया है। बीएमसी अधिकारियों ने कहा कि दिवाली पर रात 8 से 10 बजे के बीच ‘फुलझड़ी’ और ‘अनार’ जैसे ध्वनिहीन पटाखों का इस्तेमाल किया जा सकता है।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.