बडा खुलासाः Republic tv और ये 2 चैनल पैसे देकर बढ़वाते थे TRP, पुलिस ने…

Republic-tv-fake-trp-scam

मुंबई पुलिस ने गुरुवार को फॉल्स TRP रैकेट का भंडाफोड़ करने का दावा किया। पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह (Commissioner Parambir Singh)  ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर बताया कि रिपब्लिक टीवी (Republic tv) समेत 3 चैनल पैसे देकर टीआरपी खरीदते थे और बढ़वाते थे। इस मामले में 2 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। इन चैनलों से जुड़े लोगों को पूछताछ के लिए बुलाया जाएगा।

कमिश्नर (Parambir Singh) ने कहा कि हमें ऐसी सूचना मिली थी कि फेक प्रोपेगैंडा (Fake propaganda) चलाया जा रहा है। इसके बाद क्राइम ब्रांच ने छानबीन की और इस रैकेट का भंडाफोड़ किया। रिपब्लिक के प्रमोटर और डायरेक्टर के खिलाफ जांच की जा रही है। हिरासत में लिए गए लोगों ने यह बात कबूल की है कि ये चैनल पैसे देकर TRP बदलवाते थे।

कैसे चल रहा था TRP का खेल?
कमिश्नर ने बताया कि जांच के दौरान ऐसे घर मिले हैं, जहां TRP का मीटर लगा होता था। इन घरों के लोगों को पैसे देकर दिनभर एक ही चैनल चलवाया जाता था, ताकि चैनल की TRP बढ़े। उन्होंने यह भी बताया कि कुछ घर तो ऐसे पता चले हैं, जो बंद थे, उसके बावजूद अंदर टीवी चलते थे। एक सवाल के जवाब में कमिश्नर ने यह भी कहा कि इन घर वालों को चैनल या एजेंसी की तरफ से रोजाना 500 रुपए (500 rupees) तक दिए जाते थे।