ये है सबसे पहली दुनिया की उड़ने वाली कार, पेट्रोल की जगह इस्तमाल होगा?

This-is-the-world's-first-flying-car-will-replace-petrol

नई दिल्ली: आज के समय में इंसान के लिए कुछ भी कर पाना असंभव है। क्योंकि समय के साथ दुनिया प्रगति के मामले में तेजी से विकसित हो रही है। लोग धरती से आकाश में पहुंच गए हैं।

इसलिए, सपने को हकीकत में बदलने में देर नहीं लगती। अच्छी खबर यह है कि दुनिया में उड़ने वाली कारें अब लोगों के जीवन की सच्चाई बन गई हैं। क्योंकि इस कार को यूरोप में चलाने की अनुमति दी गई है।

आपको बता दें कि इस कार का निर्माण एक डच कंपनी ने किया है। जिसे PAL (पर्सनल एयर लैंड व्हीकल) कहा जाता है। इस कंपनी की ओर से दावा किया गया है कि फ्लाइंग कार (PAL) -V लिबर्टी दुनिया की पहली प्रोडक्शन मॉडल फ्लाइंग कार है।

पहली बात यह है कि यूरोप में, 3 व्हीलर कार के लिए लाइसेंस 4 व्हीलर की तुलना में अधिक जल्दी प्राप्त होता है। जबकि फायदा यह है कि मक्खी के अनुसार इस कार का वजन भी बहुत कम होता है।

तब से, वर्ष 2020 में, इस कार को चलाने की अनुमति दी गई है। आपको बता दें कि कार चलाने की मंजूरी देने से पहले कई कठिन परीक्षाओं से गुजरना पड़ा है।

फरवरी 2020 के महीने से, इस कार के विभिन्न परीक्षण शुरू हुए। जिसमें इस कार को स्पीड, ब्रेक और ध्वनि प्रदूषण जैसे कई मापदंडों पर परखा गया है।

यही नहीं, यह भी दिलचस्प है कि इस कार ने यूरोपियन रोड कमीशन का ट्रायल पास किया है। इसके बाद ही, यूरोपीय सड़क आयोग ने इस कार को लाइसेंस प्लेट के साथ सड़क पर चलने की अनुमति दी है।

वर्तमान में, इसे अभी तक आकाश में उड़ने की अनुमति नहीं है। कहा जा रहा है कि इसके लिए कंपनी को पहले यूरोपियन एविएशन सेफ्टी एजेंसी से सहमति लेनी होगी।

इसके साथ ही, PAL-V कंपनी द्वारा यह भी दावा किया गया है कि, 2022 तक इस कार को आसमान में उड़ाने की मंजूरी दी जाएगी। आपकी जानकारी के लिए हम आपको बता दें कि साल 2012 था जब इसे बनाने वाली कंपनी ने एक प्रोटोटाइप बनाया था।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.